नमस्कार, आईये जुडे मेरे इस ब्लांग से, आप अपनी बाल कहानियां, कविताय़ॆ,ओर अन्य समाग्री जो बच्चो से के लायक हो इस ब्लांग मे जोडॆ,आप अगर चाहे तो आप भी इस ब्लांग के मेम्बर बने ओर सीधे अपने विचार यहां रखे, मेम्बर बनने के लिये मुझे इस e mail पर मेल करे, ... rajbhatia007@gmail.com आप का सहयोग हमारे लिये बहुमुल्य है,आईये ओर मेरा हाथ बटाये.सभी इस ब्लांग से जुड सकते है, लेकिन आप की रचनाये सिर्फ़ सिर्फ़ हिन्दी मे हो, आप सब का धन्यवाद

मोका !!!

प्रस्तुतकर्ता राज भाटिय़ा

यह सुंदर  बाल कविता भी हमे अनिल सवेरा जी ने भेजी है. धन्यवाद

चीनू चुहिया, बिल मे बेठी
गुप चुप झांक रही थी,
बाहर बेठी बिल्ली मोसी,
मोका तांक रही थी.




मोसी बोली बडे  प्यार से,
बेटी बाहर आओ,
क्यो हो सहमी डरी डरी सी,
कारण तो बतलाओ.




तुम्हारी तो मोसी हुं मै,
मुझ से क्यो डरती हो,
दुंगी तुम को चाकलेट टाफ़ी
विशवास अगर करती हो.




चालाक चीनू समझ गई
बिगडी बिल्ली की बातें,
बाहर ना आऊंगी बिलकुल,
जानू तेरी ओकात

  चित्र लिये हे abhivyakti  से ऎतराज होने पर हटा दिये जायेगे, उन का धन्यवाद

17 आप की राय:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

प्यारी बाल कविता ...बहुत सुंदर

माधव( Madhav) said...

प्यारी बाल कविता

जय हिन्द said...

!! सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा !!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत-बहुत बधाई!
--
सुन्दर बाल कविता है!
--
आपकी चर्चा तो हमने
बाल चर्चा मंच पर भी कर दी है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/25.html

चैतन्य शर्मा said...

बहुत प्यारी बाल कविता....

अशोक बजाज said...

मनभावन कविता है , आपको सचमुच बच्चो से काफी लगाव है .

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

बहुत सुंदर कविता। बधाई।

sheetal said...

sundar kavita,
mere blog par bhi jaroor aaye.

sheetal said...

aapka bahut bahut shukriya mere blog par aane ke liye aur mera utsah badhane ke liye.

sheetal said...

aapka bahut shukriya mere blog par aane ke liye aur mera utsah badhane ke liye.

Alok Mohan said...

bahut hi pyari kavita
bachpan ke din yaad aa gaye

Harsh Rastogi said...

good poem

sheetal said...

aapko Deepavali ki hardik subhkamnai.

Sunil Kumar said...

बहुत सुंदर कविता। बधाई।

अशोक बजाज said...

'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका - अशोक बजाज रायपुर

ग्राम-चौपाल में आपका स्वागत है
http://www.ashokbajaj.com/2010/11/blog-post_06.html

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

बच्चों के लिए सरल कविता लिखना बहुत ही मुश्किल है !
कविता बहुत ही प्यारी लगी!
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

Hindi Choti said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां


Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

Sexy Actress, Model (Bollywood, Hollywood)

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये